Sunday, 2 August 2015

Roman Alphabet

Definition of Roman English:

The Roman or Latin alphabet is the alphabet used for many modern-day languages.

The alphabet is a writing system which evolved from a western variety of the Greek alphabet. It was the Etruscans who first developed it, and the Romans developed it further. The sounds of some letters changed, some letters were lost and gained, and several writing styles ('hands') developed. Two such styles were combined into one script with upper and lower case letters ('capitals' and 'small letters'). Modern uppercase letters differ only slightly from their Roman counterparts. There are few regional variations.

The English alphabet consists of 26 letters and Gujarati or Hindi alphabet consists of 46 letters.

अंग्रेजी वर्णमाला में 26 अक्षरों और गुजराती या हिंदी वर्णमाला  में  46 अक्षरों होते हैं।

अंग्रेजी वर्णमाला में वर्ण (Letters) दो प्रकार के होते हैं ­– बड़े (Capital) जैसे - A और छोटे (Small) जैसे - a आदि । फिर ये सभी वर्ण छापे में भिन्न भिन्न आकार के होते हैं, और लिखने मैं भिन्न भिन्न आकार के । इस प्रकार वर्ण चार प्रकार के हुए:
  1. छापे के बड़े (Capital) वर्ण
  2. छापे के छोटे (Small) वर्ण
  3. लिखने के बड़े (Capital) वर्ण
  4. लिखने के छोटे (Small) वर्ण
  • बीच की दो पंक्तियों में लिखे जाने वाले वर्ण – a, c, e, I, m, n, o, r, s, u, v, w, x, z
  • ऊपर की तीन पंक्तियों में लिखे जाने वाले वर्ण – b, d, h, k, l, t
  • चार पंक्तियों में लिखे जाने वाले वर्ण – f
  • नीचे की तीन पंक्तियों में लिखे जाने वाले वर्ण – g, j, p, q, y

Some other languages have different characters based on this alphabet. A few are: ă, â, á, é, í, î, ó, ẹ, ị, ọ, ụ, ã, ả, ẻ, ỉ, ỏ, ủ, ñ, č, ď, ě, í, ň, ř, š, ș, ť, ț, ú, ů, ž and đ.

It uses the following letters:
Uppercase – A, B, C, D, E, F, G, H, I, J, K, L, M, N, O, P, Q, R, S, T, U, V, W, X, Y, Z
Lowercase – a, b, c, d, e, f, g, h, i, j, k, l, m, n, o, p, q, r, s, t, u, v, w, x, y, z

Click on the links below for other alphabet table

----: Remember :----

  • अंग्रेज़ी में बड़े (Capital) और छोटे (Small) दो तरह के वर्ण होते हैं। बड़े वर्णों का प्रयोग वाक्य के आरम्भ में, व्यक्तिवाचक संज्ञा में (जैसे Delhi) शब्दों के संक्षिप्त रुपों में (जैसे Doctor के लिए Dr.) तथा महीनों व दिनों के नाम (जैसे March, Saturday) आदि के लिए होता है। बड़े (Capital) वर्णों के होने से भाषा देखने में अच्छी लगती है।
  • सोचिए, यदि अंग्रेज़ी में Capital अक्षर न होते, तो (मैं) के लिए (i) लिखा जाता, I नहीं।
  • हिन्दी (देवनागरी लिपि में) लाइन पर शिरोरेखा डाली जाती है जबकि अंग्रेज़ी (रोमन लिपि में) लाइन के ठीक उपर लिखी जाती है।

No comments:

Post a comment